Thursday, October 15, 2009

उलझन जीवन की सखा

उलझन जीवन की सखा, कभी न छूटे साथ।
सुलझेंगे उलझन तभी, मिले हाथ से हाथ।।

शब्द ब्रह्म बनते वहीं, जब हो भाव सुयोग।
शब्दों से ही कष्ट है, शब्द भगाये रोग।।

आशा हो जब संगिनी, जीना है आसान।
जीवन में खुशियाँ मिले, हटे दुखों से ध्यान।।

प्रहरी था जनतंत्र का, आज बना बाजार।
पैसे खातिर मीडिया, करता आज प्रचार।।

सृजन भाव के संग में, कर्मशील इन्सान।
कटते हैं जीवन सहज, मिलते कई प्रमाण।।

बचपन की यादें भली, बेहतर है एहसास।
खोजे दुख में आदमी, अपना ही इतिहास।।

ताले नफरत के जड़े, लोग आज हैं तंग।
हँसना, रोना, प्यार का, बदल गया है ढ़ंग।।

विज्ञापन पढ़ के लगा, बड़े काम की चीज।
सेवन करने पर बना, परमानेन्ट मरीज।।

खींचो कश सिगरेट के, भागे नहीं तनाव।
सार्थक चिन्तन हो अगर, बढ़ता नित्य प्रभाव।।

बातें बिल्कुल आपकी, और सुमन एहसास।
शब्द सजाया सोचकर, जहाँ लगा जो खास।।

24 comments:

seema gupta said...

झिलमिलाते दीपो की आभा से प्रकाशित , ये दीपावली आप सभी के घर में धन धान्य सुख समृद्धि और इश्वर के अनंत आर्शीवाद लेकर आये. इसी कामना के साथ॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰ दीपावली की हार्दिक शुभकामनाए.."
regards

Mishra Pankaj said...

आपको और आपके परिवार दीपावली की शुभकामना ......
पंकज मिश्रा

दर्पण साह "दर्शन" said...

m wondering ki kya inmein se kisi dohe ka kshrot meri rachna bhi rahi hogi?

Sab ek se ek behterin...
Aur Spontaneous to hain hi...
:)
Aapko aur aapke pariwaar ko Diwali ki shubh kaamnaiyen

ओम आर्य said...

बढ़ा दो अपनी लौ
कि पकड़ लूँ उसे मैं अपनी लौ से,

इससे पहले कि फकफका कर
बुझ जाए ये रिश्ता
आओ मिल के फ़िर से मना लें दिवाली !
दीपावली की हार्दिक शुभकामना के साथ
ओम आर्य

Shiv Kumar Mishra said...

बहुत बढ़िया रहा. सारे दोहे ऐसे हैं जो किसी पोस्ट विशेष पर की गई टिप्पणी लगते ही नहीं. और यही खूबसूरती है इन दोहों की.

आपने मेरे ब्लॉग पर भी ढेर सारे टिप्पणी रुपी दोहे लिखे हैं. मैं उन्हें आपको मेल कर दूंगा.

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

सुंदर व्यंजनाएं।
दीपपर्व की अशेष शुभकामनाएँ।
आप ब्लॉग जगत में निराला सा यश पाएं।

-------------------------
आइए हम पर्यावरण और ब्लॉगिंग को भी सुरक्षित बनाएं।

विनोद कुमार पांडेय said...

दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएँ...जो भी हो जैसी भी हो आपकी रचना अच्छी लगती है..बधाई!!!

Nirmla Kapila said...

बहुत सुन्दर दोहे हैं। आपको व परिवार को दीपावली की शुभकामनायें

Kusum Thakur said...

आपको दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई !!!
अच्छा लगा यह संकलन .

संजय भास्कर said...

दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएँ...जो भी हो जैसी भी हो आपकी रचना अच्छी लगती है..बधाई!!!

FROM :-
SANJAY KUMAR
HARYANA
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

ललित शर्मा said...

गागर मे सागर भरा है,
आपको दीपावली की शुभकामनाएँ

इष्ट देव सांकृत्यायन said...

बहुत बढ़िया.

Udan Tashtari said...

अच्छा संकलन हो गया.

सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

-समीर लाल ’समीर’

राकेश खंडेलवाल said...

जो चषक हाथ धन्वन्तरि के थमा, नीर उसका सदा आप पाते रहें
शारदा के करों में जो वीणा बजी, तान उसकी सदा गुनगुनाते रहें
क्षीर के सिन्धु में रक्त शतदल कमल पर विराजी हुई विष्णु की जो प्रिया
के करों से बिखरते हुए गीत का आप आशीष हर रोज पाते रहें

राकेश

AlbelaKhatri.com said...

मन मोहे .......आपके दोहे.....

अभिनन्दन !

आपको और आपके परिवारजन को
दीपोत्सव की हार्दिक बधाइयां
एवं मंगल कामनायें.......

ज्ञानदत्त पाण्डेय| Gyandutt Pandey said...

आपने तो बड़े सकारात्मक/सार्थक भाव से देखा है ब्लॉग जगत को।
सामान्यत: इतने उदार भाव से न लोग लिखते हैं; न इण्टरेक्ट करते हैं! :-)

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बढ़िया हैं, आपके विचित्र दोहे!

आज खुशियों से धरा को जगमगाएँ!
दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

रश्मि प्रभा... said...

bahut hi badhiyaa.....
diwali ki shubhkamnayen

श्यामल सुमन said...

स्नेह समर्थन आपका श्यामल का आभार।
दिवाली खुशियाँ लिए आये सबके द्वार।।

सादर
श्यामल सुमन
www.manoramsuman.blogspot.com

MANOJ KUMAR said...

इन दोहों ने मन मोह लिया,
सौंदर्य-दीप्ति में ढ़ले हुए है।
दीपावली पर शुभकामनाएं
सौ-सौ दीप जले हुए हैं।।

Suman said...

दीपावली, गोवर्धन-पूजा और भइया-दूज पर आपको ढेरों शुभकामनाएँ!

SACCHAI said...

" bahut hi sunder sir ...bahut kuch sikhne ko mila aapse "

" DIPAWALI KI SUBHKAMNAYE "

----- eksacchai { aawaz }

http://eksacchai.blogspot.com

Babli said...

वाह वाह क्या बात है ! अत्यन्त सुंदर दोहे ! सब एक से बढ़कर एक हैं !
आपको और आपके परिवार को दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें!

समयचक्र - महेंद्र मिश्र said...

दीपावली की आपको और आपके परिवाजनों को हार्दिक बधाई.

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!