Saturday, September 22, 2012

नहीं पेड़ पे पैसा उगता

बहुत सुना बचपन से भाई, नहीं पेड़ पे पैसा उगता
अभी खबर दिल्ली से आई, नहीं पेड़ पे पैसा उगता

अर्थशास्त्र के पण्डित होकर बोझ बढ़ाते लोगों पर
अपने खाते रोज मलाई, नहीं पेड़ पे पैसा उगता

प्रमुख देश का बोल रहे थे या कोई रोबोट वहाँ
महिमा से मंडित मँहगाई, नहीं पेड़ पे पैसा उगता

धवल वस्त्र था अबतक उनका राजनीति में रहकर भी
अपने पर छींटा रोशनाई, नहीं पेड़ पे पैसा उगता

किसी को मोहित कर न पाया अपने क्रिया-कलापों से
वही आज है बना कसाई, नहीं पेड़ पे पैसा उगता

बिना रीढ़ के लोग अभीतक कुछ उनके आगे-पीछे
बस उनकी बातें दुहराई, नहीं पेड़ पे पैसा उगता

जब दिल्ली ही ऐसा बोले सुमन चमन का क्या सोचे
मजबूरी की राम दुहाई, नहीं पेड़ पे पैसा उगता

14 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

हमने भी बहुत बीज ढूढ़े बचपन..

रविकर फैजाबादी said...

पैसा पा'के पेड़ पर, रुपया कोल खदान ।
किन्तु उधारीकरण से, चुकता करे लगान ।
चुकता करे लगान, विदेशी खाद उर्वरक ।
जब मजदूर किसान, करेगा मेहनत भरसक ।
पर मण्डी मुहताज, उन्हीं की रहे हमेशा ।
लागत नहीं वसूल, वसूलें वो तो पैसा ।।

ब्लॉग बुलेटिन said...

थोड़ा कहा बहुत समझना - ब्लॉग बुलेटिन ब्लॉग जगत मे क्या चल रहा है उस को ब्लॉग जगत की पोस्टों के माध्यम से ही आप तक हम पहुँचते है ... आज आपकी यह पोस्ट भी इस प्रयास मे हमारा साथ दे रही है ... आपको सादर आभार !

काजल कुमार Kajal Kumar said...

/:-)

SAJAN.AAWARA said...

Kitini mehnat se sache logo ne ye ped ugaye the par in bhrast kangresi neton or unke chamchon ne sab kaat dale hain.
Koi area esa nahi chora jahan in saalon ne apne hath nahi dale hain.
Itna koyla ye kha chuke ki inhe ab salon khane ki jrurat nahi, par aam aadmi ko to ek nivale ke bhi pade lale hain.
Ismein inka koi ksur nahi, ye galti hmari hai. Kyunki vote dekar akhir hamne hi to ye saanp pale hain.
Jai maa bharti

निवेदिता श्रीवास्तव said...

ये यक्ष प्रश्न बन सबको जगा दे तब ही बात बने .....

Anonymous said...

I am really satisfied with this posting that you have given us. This is really a stupendous work done by you. Thank you and looking for more posts

देवेन्द्र पाण्डेय said...

हाँ, यह बात तो हम जानते ही थे। अब बच्चों से भी कह नहीं पायेंगे। बच्चे कहेंगे, "प्रधान मंत्री मत बनिये।"

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

वाह!
आपकी इस ख़ूबसूरत प्रविष्टि को कल दिनांक 24-09-2012 को सोमवारीय चर्चामंच-1012 पर लिंक किया जा रहा है। सादर सूचनार्थ

गुड्डोदादी said...


मन मोहित ना किया किसी का आज तलक जो भारत में
बना आज है वही कसाई, पैसा, पेड़ नहीं उगता

(पेड़ पर डालर तोड़ने गयी
पत्ते ही गिर रहे हैं)

Virendra Kumar Sharma said...

पैसा, पेड़ नहीं उगता

बहुत सुना बचपन से भाई, पैसा, पेड़ नहीं उगता
देश-प्रमुख ने अब समझाई, पैसा, पेड़ नहीं उगता

अर्थशास्त्र के पण्डित होकर बोझ बढ़ाते लोगों का
अपने खाते रोज मलाई, पैसा, पेड़ नहीं उगता

बोल रहे थे देश-प्रमुख ही या कोई रोबोट वहाँ
लादे लोगों पर मँहगाई, पैसा, पेड़ नहीं उगता

राजनीति में रहकर भी जो धवल वस्त्र के स्वामी थे
खुद ही छींट लिया रोशनाई, पैसा, पेड़ नहीं उगता

मन मोहित ना किया किसी का आजतलक जो भारत में
बना आज है वही कसाई, पैसा, पेड़ नहीं उगता

उनके भी आगे पीछे कुछ जिनको रीढ़ नहीं यारो
बातें उनकी ही दुहराई, पैसा, पेड़ नहीं उगता

ऐसा बोले देश-प्रमुख जब सुमन चमन का क्या सोचे
मजबूरी की राम दुहाई, पैसा, पेड़ नहीं उगता
Posted by श्यामल सुमन at 4:21 AM
Labels: ग़ज़ल

सच कहते रोबोट गुसाईं ,पैसा पेड़ नहीं उगता ,

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

पैसा पेड़ नहीं उगता ॥पर खादनों से पैसा निकलता है ... बहुत बढ़िया गजल

mahendra mishra said...

bahut bhavapoor rachana abhivyakti ...abhar

mahendra mishra said...

bahut dharadhar abhivyakti ..abhaar

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!