Saturday, June 14, 2014

रोटी मिली पसीने की

इक हिसाब है मेरी जिन्दगी सालों साल महीने की
लेकिन वे दिन याद सभी जब रोटी मिली पसीने की

लोग हजारों आसपास में कुछ अच्छे और बुरे अधिक
इन लोगों में ही तलाश है नित नित नए नगीने की

नेकी  करने वाले अक्सर बैठे गुमशुम कोने में
समाचार में तस्वीरों संग चर्चा आज कमीने की

आज जिन्दगी भँवर बनी जब सबको पार उतरना है
मगर फिक्र है कहाँ किसी को हालत देख सफीने की

सच्चाई का साथ ना छोड़ा, न छोड़ा ईमान कभी
फिर भी कहते लोग सुमन को करता नहीं करीने की

4 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (15-06-2014) को "बरस जाओ अब बादल राजा" (चर्चा मंच-1644) पर भी होगी!
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

Vaanbhatt said...

लाजवाब शेर...मज़ा आ गया...

आशा जोगळेकर said...

पसीने की रोटी मिले तो चैन की नींद आती है।

Sanju said...

बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति....
बधाई मेरी

नई पोस्ट
पर भी पधारेँ।

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!