Tuesday, August 11, 2015

एक मौका दीजिए

वो सजा देगा चमन को एक मौका दीजिए
फिर बढायेगा जलन को एक मौका दीजिए

छुप गए हैं चांद तारे बादलों की ओट में
देख लूँ नीले गगन को एक मौका दीजिए

बेचकर सपने हजारों फिर वही शासक बने
आग में झोंके अमन को एक मौका दीजिए

लडते हैं कैसे मवाली देखिए संसद अभी
फिर वही रोके सदन को एक मौका दीजिए

औरतों में खासियत की फिक्र कितने लोग को
जो निहारे बस बदन को एक मौका दीजिए

जो सिखा दे अर्थ क्या है मौन की आवाज का
ऐसे प्यारे उस नयन को एक मौका दीजिए

प्रेम से पूजा करें या प्रेम की पूजा करें
तोडियेगा मत सुमन को एक मौका दीजिए

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!