Friday, September 4, 2015

बढ़े चलो अविराम मुसाफिर

आगे बढ़ना काम मुसाफिर
नहीं तुझे आराम मुसाफिर
मंजिल से आगे भी मंजिल
निकलेगा परिणाम मुसाफिर
                                            कभी कृष्ण तू राम मुसाफिर
                                           और कई हैं नाम मुसाफिर
                                            जिसने राह सुगम कर डाला
                                            सबको सतत प्रणाम मुसाफिर
छाया भी है घाम मुसाफिर
रस्ता है अभिराम मुसाफिर
लक्ष्य सामने, पाना है तो
बढ़े चलो अविराम मुसाफिर
                                              हृदय भाव निष्काम मुसाफिर
                                              तभी काम का दाम मुसाफिर
                                              स्वारथ में जो अक्सर जीते
                                              हो जाते बदनाम मुसाफिर
कोई नहीं लगाम मुसाफिर
सबका रस्ता आम मुसाफिर
यहाँ संभल के चलते उनको
मिलता सदा सलाम मुसाफिर
                                               जीवन तब नाकाम मुसाफिर
                                               जब होठों पर जाम मुसाफिर
                                               मूल्य बचे तो जी लेंगे सब
                                               देना ये पैगाम मुसाफिर
भूखे हैं जन आम मुसाफिर
खाते कुछ बादाम मुसाफिर
अगर विषमता नहीं मिटी तो
सोच सुमन अंजाम मुसाफिर

1 comment:

kuldeep thakur said...


आप की लिखी ये रचना....
06/09/2015 को लिंक की जाएगी...
http://www.halchalwith5links.blogspot.com पर....
आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित हैं...


हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!