Wednesday, September 2, 2015

जीवन को पहचान मुसाफिर

प्रीति परस्पर दान मुसाफिर
मिट जाता अभिमान मुसाफिर
प्रेम नगर में फिर भी कितने
दिख जाते नादान मुसाफिर 
                                               प्रेम योग है, ध्यान मुसाफिर
                                               मानो तो भगवान मुसाफिर
                                               सहज खुशी जीवन में हो तो
                                               जीवन का सम्मान मुसाफिर
जीवन को पहचान मुसाफिर
कदम कदम व्यवधान मुसाफिर
प्यार की बातें सब करते पर
प्रेमी का अपमान मुसाफिर
                                                 मातु पिता सन्तान मुसाफिर
                                                 इक दूजे की जान मुसाफिर
                                                 जितना प्यार लुटाओगे तुम
                                                  बढ़े प्रेम का मान मुसाफिर
हृदय प्रेम वरदान मुसाफिर
हैं सबके अरमान मुसाफिर
मैं से तुम मिलके हम हो तो
प्रेम सृजन विज्ञान मुसाफिर
                                                  रस्ता है अनजान मुसाफिर
                                                  होना मत हलकान मुसाफिर
                                                  भले साँकरी प्रेम डगर हो
                                                  होगा एक निदान मुसाफिर
गोकुल सा मैदान मुसाफिर
सुन मुरली की तान मुसाफिर
गोपी से जब सुमन जुदाई
दिल में जख्म निशान मुसाफिर

1 comment:

राजेंद्र कुमार said...

आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (04.09.2015) को "अनेकता में एकता"(चर्चा अंक-2088) पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!