Sunday, September 6, 2015

आते जाते रोज मुसाफिर

हो मन में अनुराग मुसाफिर
तब जीवन बेदाग मुसाफिर
मगर बुराई से लड़ने की
दिल में रखना आग मुसाफिर
                                              आते जाते रोज मुसाफिर
                                              सबके भीतर ओज मुसाफिर
                                              बन द्वापर के नायक जैसा
                                              वैसा नायक खोज मुसाफिर 
क्यों जीवन अवसाद मुसाफिर 
ले लो पल पल स्वाद मुसाफिर
जीवन सफल अगर तू कर ले 
सुख में दुख को याद मुसाफिर
                                              रखना पथ की लाज मुसाफिर
                                              देना ये आवाज मुसाफिर
                                              इक बीता कल इक आएगा
                                              बस जी ले तू आज मुसाफिर
हर पग की आवाज मुसाफिर
जीवन का आगाज मुसाफिर
अपने अपने सब के होते
जीने के अन्दाज मुसाफिर
                                             रोते अक्सर आज मुसाफिर
                                             क्यों खुद से नाराज मुसाफिर
                                             ठीक ठाक जीवन है मुमकिन
                                             मीठे हों अल्फाज मुसाफिर
अपने अपने साज मुसाफिर
खोलो दिल के राज मुसाफिर
सब कुछ मिटे सुमन के शायद
बची रहे आवाज मुसाफिर

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!