Monday, November 2, 2015

एक छुअन से भर गया

दिल में उतरा आंख से, शायद पहली बार।
खोजा सबकुछ पर मिला, मुझे प्यार ही प्यार।।

भाव प्रेम को शीर्ष दे, और मिलन उत्कर्ष।
एक छुअन से भर गया, हृदय हर्ष ही हर्ष।।

अभिनय करके प्यार का, रोज बढाना मेल।
त्याग, समर्पण भूलकर, बना प्यार अब खेल।।

मुश्किल था कहना कभी, मुझको तुमसे प्यार।
अब तो झट से बोलते, कदम चले संग चार।।

प्रेम जताना बोल के, क्योंकर बारम्बार।
सिले होंठ से बोलता, आपस का व्यवहार।।

भौतिकता से है परे, यह मन का विज्ञान।
प्रेमीजन तो लुटा रहे, इक दूजे पर जान।।

पहले खुद से प्यार कर, तब दूजे से प्यार।
सुमन तभी प्यारा लगे, प्यार भरा संसार।।

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!