Sunday, January 3, 2016

युद्ध बना अब खेल

यूँ तो पल पल है नया, पल पल नये सवाल।
नये साल में हे प्रभु, रहे सभी खुशहाल।।

मीत सफल वह प्रीत है, हार जहाँ पर जीत।
कागा-सुर में भी छिपा, जीवन का संगीत।।

शोषण कुदरत का हुआ, ले विकास का नाम।
मौसम बदला इस तरह, भुगत रहे परिणाम।।

क्यों जनता तकलीफ में, गढ़ते अपने तर्क।
संसद को गूँगा किया, किसको पड़ता फर्क।।

चिर प्रतिद्वंदी देश का, देख अचानक मेल।
खेल बनाया युद्ध को, युद्ध बना अब खेल।।

पास बुलाया प्यार से, भरा आँख में नीर।
ज्यों सियार जल घट मिला, बगुला थाली खीर।।




2 comments:

kuldeep thakur said...

जय मां हाटेशवरी...
आपने लिखा...
कुछ लोगों ने ही पढ़ा...
हम चाहते हैं कि इसे सभी पढ़ें...

इस लिये दिनांक 04/01/2016 को आप की इस रचना का लिंक होगा...
चर्चा मंच[कुलदीप ठाकुर द्वारा प्रस्तुत चर्चा] पर...
आप भी आयेगा....
धन्यवाद...

Sanju said...

सुन्दर व सार्थक रचना...
नववर्ष मंगलमय हो।
मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है...

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!