Sunday, May 20, 2018

प्यार सुमन से करना होगा

सोच समझकर चलना होगा
मुमकिन तब ही बढ़ना  होगा

जीवन के ऊबड़ खाबड़ में
गिरकर पुनः संभलना होगा

गलत फैसला अपना भी तो
उसको तुरत बदलना होगा

मकड़जाल जीवन भर है पर
बन के चतुर निकलना होगा

अहंकार को अपनाने पर
बार बार फिर मरना होगा

हरदिन जीवन समझौता है
इसे प्यार से पढ़ना होगा

सफल जिन्दगी अगर चाहिए
प्यार सुमन को करना होगा

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!