Saturday, January 12, 2019

सिखा गए यह राम मुसाफिर

चलना तेरा काम मुसाफिर
तुझे नहीं आराम मुसाफिर
गौर करो कुछ राजनीति पर
खोज नया आयाम मुसाफिर

               चिल्लाते हैं जोर मुसाफिर
               मचा रहे नित शोर मुसाफिर
               पक्ष, विपक्षी इक दूजे को
               कहते रहते चोर मुसाफिर

निर्धन जाता टूट मुसाफिर
धनवानों को छूट मुसाफिर
भाग गए हैं देखो कितने
भारत का धन लूट मुसाफिर

               सभी दलों के पक्ष मुसाफिर
               बस चुनाव है लक्ष मुसाफिर
               किस प्रकार हो मंदिर मुद्दा
               खड़ा प्रश्न है यक्ष मुसाफिर

भाषण में हमदर्द मुसाफिर
कर्मों से बेदर्द मुसाफिर
पता नहीं कब दूर करेंगे
ये जनता के दर्द मुसाफिर

               सब करते हैं कर्म मुसाफिर
               यह जीवन का मर्म मुसाफिर
               मगर सियासत अब सिखलाती
               सबसे ऊपर धर्म मुसाफिर

राष्ट्र भक्ति के नाम मुसाफिर
जीवन कई तमाम मुसाफिर
सुमन श्रेष्ठ सबसे मानवता
सिखा गए यह राम मुसाफिर

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!