Monday, August 31, 2015

जीवन है श्रृंगार मुसाफिर

जीवन पथ अंगार मुसाफिर, 
खाते कितने खार मुसाफिर
जीवटता संग होश जोश तो, 
बाँटो सबको प्यार मुसाफिर
                                             दुखिया है संसार मुसाफिर, 
                                             नैया भी मझधार मुसाफिर
                                             आपस में जब हाथ मिलेंगे, 
                                             होगा बेड़ा पार मुसाफिर

प्रेम जगत आधार मुसाफिर, 
फिर काहे तकरार मुसाफिर
संविधान ने दिया है सबको, 
जीने का अधिकार मुसाफिर
                                              करते जिसको प्यार मुसाफिर, 
                                              दे अक्सर दुत्कार मुसाफिर
                                              फिर जाने कैसे बदलेगा, 
                                              दुनिया का व्यवहार मुसाफिर

कहती है सरकार मुसाफिर, 
जाति धरम बेकार मुसाफिर
मगर लड़ाते इसी नाम पर, 
सत्ता-सुख साकार मुसाफिर
                                               खुद पे कर उपकार मुसाफिर, 
                                               जी ले पल पल प्यार मुसाफिर
                                               देख जरा मन की आँखों से, 
                                               जीवन है श्रृंगार मुसाफिर

चाहत सबकी प्यार मुसाफिर, 
पर दुनिया बीमार मुसाफिर
प्रेमी सुमन जहाँ दो मिलते,  
मिलती है फटकार मुसाफिर

2 comments:

कालीपद "प्रसाद" said...

bahut sundar

Madan Saxena said...

बहुत खूब , शब्दों की जीवंत भावनाएं... सुन्दर चित्रांकन
कभी यहाँ भी पधारें

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!