Saturday, September 12, 2015

ज्यों मुट्ठी से रेत मुसाफिर

है रस्ता बस एक मुसाफिर
राही मिले अनेक मुसाफिर
कौन साथ हो किसको छोड़ें
रखना सदा विवेक मुसाफिर
                                              खबरों का संचार मुसाफिर
                                              क्या समाज बीमार मुसाफिर
                                              अपराधों की खबरों से ही
                                              भरा पड़ा अखबार मुसाफिर
देना इक सन्देश मुसाफिर
मिटे सभी का क्लेश मुसाफिर
अपना अपना फर्ज निभा ले
सुन्दर होगा देश मुसाफिर
                                               जीवन है संग्राम मुसाफिर
                                               करना होगा काम मुसाफिर
                                               आगे नित बढ़ना ही जीवन
                                               यहाँ कहाँ विश्राम मुसाफिर
हैं जो भी मजबूर मुसाफिर
दिल से कर मंजूर मुसाफिर
प्यार बाँटने से मुमकिन हो
उन आँखों में नूर मुसाफिर
                                               भाव हृदय हो श्वेत मुसाफिर
                                               समय समय पर चेत मुसाफिर
                                               कहीं सफलता निकल न जाए
                                               ज्यों मुट्ठी से रेत मुसाफिर
गीत सुमन के प्रीत मुसाफिर
हार कहीं तो जीत मुसाफिर
याद करो उस मीठे पल को
मिले जहाँ मनमीत मुसाफिर

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!