Wednesday, September 9, 2015

चलो शहर से गाँव मुसाफिर

जिसका जितना शोर मुसाफिर
उतना वो कमजोर मुसाफिर
मुमकिन खुद से अगर निकालो
अपने मन का चोर मुसाफिर
                                                 सबकी अपनी रीत मुसाफिर
                                                 अपने अपने गीत मुसाफिर
                                                 मगर मूल स्वर एक सभी के
                                                 मानवता से प्रीत मुसाफिर
हृदय प्रेम रस धार मुसाफिर
जीवन का संचार मुसाफिर
करने वाले करते रहते
पत्थर से भी प्यार मुसाफिर
                                                तेरी क्या औकात मुसाफिर
                                                तू केवल जज्बात मुसाफिर
                                                जिसकी दिशा दशा पे अंकुश
                                                बदलेंगे हालात मुसाफिर
तेरे सर पे ताज मुसाफिर
आती जन को लाज मुसाफिर
क्योंकि जग के हर कोने में
बिखरा हुआ समाज मुसाफिर
                                                चलो शहर से गाँव मुसाफिर
                                                बैठें पीपल छाँव मुसाफिर
                                                आपस में मिलने जुलने की
                                                कहाँ शहर में ठाँव मुसाफिर
बढ़े चलो दिन रैन मुसाफिर
मत होना बेचैन मुसाफिर
हार, जीत से सीख, मिले तब
चमक सुमन के नैन मुसाफिर

5 comments:

राजेंद्र कुमार said...

आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (11.09.2015) को "सिर्फ कथनी ही नही, करनी भी "(चर्चा अंक-2095) पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।

ब्लॉग बुलेटिन said...

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, परमवीरों को समर्पित १० सितंबर - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

रश्मि शर्मा said...

हम सब हैं मुसाफि‍र....बहुत अच्‍छा लि‍खा।

मन के - मनके said...

Beautiful

प्रतिभा सक्सेना said...

गाँव अब वे गाँव नहीं रहे सोच कर जाना मुसाफ़िर !

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!