Saturday, September 12, 2015

मूरख समझे देह मुसाफिर

कहना है आसान मुसाफिर
देना मुश्किल मान मुसाफिर
नारी बिनु क्या मोल पुरुष का
कर नारी सम्मान मुसाफिर
                                                नारी है संगीत मुसाफिर
                                                है नारी तो प्रीत मुसाफिर
                                                हारी महिला, हार पुरुष की
                                                जीत गयी तो जीत मुसाफिर
नर नारी का मेल मुसाफिर
समझ इसे मत खेल मुसाफिर
सृजन करे पर नर की खातिर
नारी एक नकेल मुसाफिर
                                                 कोई कहता नर्क मुसाफिर
                                                 कोई बेड़ा गर्क मुसाफिर
                                                 पुरुष पूर्ण नारी बिनु कैसे
                                                 तेरा क्या है तर्क मुसाफिर
होंगे सब निष्प्राण मुसाफिर
कर तबतक निर्माण मुसाफिर
नर नारी कारण, दुनिया में
आते नूतन प्राण मुसाफिर
                                                 जब खोला अखबार मुसाफिर
                                                 लगा, हुआ बीमार मुसाफिर
                                                 खबर कई देखा, नारी पर
                                                 कितना अत्याचार मुसाफिर
नारी तो बस नेह मुसाफिर
मूरख समझे देह मुसाफिर
बढ़े सुमन विश्वास परस्पर
कैसा फिर संदेह मुसाफिर

1 comment:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (14-09-2015) को "हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ" (चर्चा अंक-2098) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!