Monday, September 14, 2015

भाषा है पहचान मुसाफिर

किसी देश की शान मुसाफिर
भाषा है पहचान मुसाफिर
मिलजुल कर हम सभी बढ़ायें
हिन्दी, हिन्दुस्तान मुसाफिर
                                               जब हिन्दी में बात मुसाफिर
                                               तब जगते जज्बात मुसाफिर
                                               उत्तर से दक्षिण तक जोड़े
                                               हिन्दी में औकात मुसाफिर
भाषा का संचार मुसाफिर
रोज बढ़ाये प्यार मुसाफिर
एक सूत्र में सबको बाँधे
हिन्दी को अधिकार मुसाफिर
                                               घर घर में सम्वाद मुसाफिर
                                               हिन्दी है आबाद मुसाफिर
                                               अपन राष्ट्र की भाषा क्या है
                                               जब से हम आजाद मुसाफिर
अपनी बोली बोल मुसाफिर
हर भाषा अनमोल मुसाफिर
मगर राष्ट्रभाषा निश्चित हो
इसका भी है मोल मुसाफिर
                                               राष्ट्र एकता मूल मुसाफिर
                                               नमन राष्ट्र को फूल मुसाफिर
                                               मगर राष्ट्रभाषा निर्धारित
                                               हुई नहीं, यह भूल मुसाफिर
हिन्दी हो धनवान मुसाफिर
शब्द शब्द उन्वान मुसाफिर
भारत के घर घर में हिन्दी
यही सुमन अरमान मुसाफिर                                     

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!