Tuesday, September 15, 2015

अच्छे दिन के ख्वाब मुसाफिर

अपना हिन्दुस्तान मुसाफिर
सचमुच बहुत महान मुसाफिर
खेती है आधार जहाँ पर 
मरते रोज किसान मुसाफिर
                                               लोकतंत्र से प्यार मुसाफिर
                                               चुनते हम सरकार मुसाफिर
                                               पर देखो संसद में अक्सर
                                                होती रहती मार मुसाफिर
क्या बेहतर संयोग मुसाफिर
जाग रहे हैं लोग मुसाफिर
है कुदाल सी नीयत सबकी
अब नैतिकता रोग मुसाफिर
                                                जला रहे जो बाग मुसाफिर
                                                घूम रहे बेदाग मुसाफिर
                                                भूल गए जनता के दिल में
                                                सुलग रही है आग मुसाफिर
अच्छे दिन के ख्वाब मुसाफिर
सपनों को आदाब मुसाफिर
और देख बहुमत की आँखें
है जिसमें सैलाब मुसाफिर
                                                 देखा सालों साल मुसाफिर
                                                 शासक करे कमाल मुसाफिर
                                                 तब राजा अब मंत्री करते
                                                 जनता को कंगाल मुसाफिर
जब से हम आजाद मुसाफिर
देश हुआ आबाद मुसाफिर
मान सुमन है व्यभिचारी को
प्रतिभाएं बर्बाद मुसाफिर

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!