Thursday, September 17, 2015

वही कुशल रंगरेज मुसाफिर

चाहे जितने मोड़ मुसाफिर
तू हिम्मत ना छोड़ मुसाफिर
खट्टे मीठे हर अनुभव से
लोगों को भी जोड़ मुसाफिर
                                             सबके अपने साज मुसाफिर
                                             अलग सभी के राज मुसाफिर
                                             राज, साज मिलते आपस में
                                             बनते तब हमराज मुसाफिर
खबर सनसनीखेज मुसाफिर
भुना रहे जो तेज मुसाफिर
रंग चढ़ाये अपना उस पर
वही कुशल रंगरेज मुसाफिर
                                             सुर अपना हो ताल मुसाफिर
                                             तब सुलझे जंजाल मुसाफिर
                                             हरपल भूख जिसे कुछ सीखें
                                             करता वही कमाल मुसाफिर
प्रीतम से जब नैन मुसाफिर
मिले हृदय को चैन मुसाफिर
लेकिन ऐसे पल कितने कम 
दिखे सभी बेचैन मुसाफिर
                                             हुआ जहाँ फैलाव मुसाफिर
                                             मद्धम स्वतः बहाव मुसाफिर
                                             रुककर पाठक - पंचों से लो 
                                             टिप्पणी और सुझाव मुसाफिर
कर लो कुछ विश्राम मुसाफिर
हुआ पूर्ण यह काम मुसाफिर
सुमन शताधिक हर मुक्तक में
जुड़े शब्द अविराम मुसाफिर

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!