Wednesday, September 9, 2015

कितना तेरा दाम मुसाफिर

खुद का बन्धन तोड़ मुसाफिर 
खुद को खुद से जोड़ मुसाफिर 
कदम उठाकर चतुराई से 
पार करो हर मोड़ मुसाफिर
                                                कभी कभी आघात मुसाफिर
                                                पर जीवन सौगात मुसाफिर
                                                अक्सर लोगों कीआँखों में 
                                                 होती क्यों बरसात मुसाफिर
अपने पर विश्वास मुसाफिर
सबकी अपनी प्यास मुसाफिर
उस मीठे अनुभव की सोचो
मिलते जब दो खास मुसाफिर
                                                 रोज मनाओ हर्ष मुसाफिर
                                                 पर जीवन संघर्ष मुसाफिर
                                                 जहाँ पसीने की खुशबू हो
                                                 मिलता है उत्कर्ष मुसाफिर
कितना तेरा दाम मुसाफिर
जितना तेरा काम मुसाफिर
जो भी पाते काम से ज्यादा
हो जाते बदनाम मुसाफिर
                                               इधर उधर मत डोल मुसाफिर
                                               बोलो दिल को खोल मुसाफिर
                                               टकराते जो वक्त से जितना
                                               वो उतना अनमोल मुसाफिर
जिसने समझा खेल मुसाफिर
गया बेचने तेल मुसाफिर
यह जीवन है सुमन खजाना
जी लो करके मेल मुसाफिर

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!