Saturday, March 12, 2016

शादी कर लो तन्हाई से

अगर लडाई हो भाई से
शादी कर लो तन्हाई से

समाधान निश्चित निकलेगा
जरा सोच तू गहराई से

एक एक से ग्यारह बनता
जुडता घर पाई पाई से

रौशन घर है पर बच्चे को
मां का प्यार मिला दाई से

कहते रोज खजाना भरता
लोग मरे क्यों मंहगाई से

लाखों मंदिर मस्जिद जाते
कुछ की दूरी है सांई से

है विश्वास सुमन जोडे तो
पर्वत बनता है राई से

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!