Sunday, May 20, 2018

इसलिए आँसुओं से नहाते रहे

जिन्दगी के सभी रंग को,
आपसी मेल या जंग को,
अपने गीतों में हम  यूँ सजाते रहे।
आप सुनते रहे,हम सुनाते रहे।।

प्यार की बातें होतीं कहाँ?
आँखें दुख में भी रोतीं कहाँ?
इसलिए आँसुओं से नहाते रहे।
आप सुनते -----

बेचता जो भी जितना जमीर,
वही होता है उतना अमीर,
रास्ता क्यों वही अपनाते रहे?
आप सुनते -----

बैठकर सोचता ये सुमन,
आए दुनिया में कैसे अमन,
इसी कोशिश में जीवन खपाते रहे।
आप सुनते -----

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!