Thursday, September 17, 2020

इस चिक चिक से नहीं शिकायत

हरदम मिलने की हो चाहत, तेरा मेरा साथ रहे

है तुम बिन बेकार ये जन्नत, तेरा मेरा साथ रहे


प्यार खुलापन माँगे यारों लेकिन शादी बन्धन है

फिर भी शादी एक रवायत, तेरा मेरा साथ रहे


नोंक-झोंक आपस में अक्सर नयी ताजगी देती है

इस चिक चिक से नहीं शिकायत, तेरा मेरा साथ रहे


बात बिना, आँखों के रस्ते दिल को पढ़ना सीख जरा

धीरे धीरे बनेगी आदत, तेरा मेरा साथ रहे


आँगन में उतरे किलकारी फिर बन्धन मजबूत हुआ

रहे खुदा की सदा इनायत, तेरा मेरा साथ रहे


चेहरे पर बढ़ती झुर्री सँग आपस में भी प्यार बढ़ा

तुम बिन अब जीना भी आफत, तेरा मेरा साथ रहे


इक दिन भी बाहर जाना तो सुमन बिना कैसे जाऊँ 

इक दूजे से मिलती ताकत, तेरा मेरा साथ रहे

सादर

श्यामल सुमन

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!