Monday, December 21, 2009

इन्तजार है

कहना कठिन हुआ कि मुझे तुमसे प्यार है
न कहा, नहीं खबर ही मगर इन्तजार है

शाखों से लिपटी बेल को देखा जो ख्वाब में
क्या ख्वाब पूरे होंगे ये दिल बेकरार है

हालात दिल का समझा आँखों में डूबकर
दुनिया समझ न पायी क्या अख्तियार है?

टकराना पर्वतों से या इश्क हो किसी से
परिणाम दर्द मिलता, जो बेशुमार है

जो इश्क न किया तो ये जिन्दगी अधूरी
हर हाल में सुमन को भ्रमर स्वीकार है

18 comments:

परमजीत बाली said...

bahut badhiyaa!!

टकराना पर्वतों से या इश्क हो किसी से
परिणाम दर्द मिलता, जो बेशुमार है

Udan Tashtari said...

टकराना पर्वतों से या इश्क हो किसी से
परिणाम दर्द मिलता, जो बेशुमार है

-Bahut khoob!!




(Roman me likhne ke liye mafi, computer ne virus hamle me dum thod diya hai, do boond aandhu usi ke naam)

रंजना said...

Komal bhavon ki atisundar abhivyakti.....Waah !!!

Sabhi sher hridayhari....

'अदा' said...

bahut hi sundar bhav liye hue hain poori kavita...
hamesha ki tarah...

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर

pragya pandey said...

हर हाल में सुमन को भ्रमर स्वीकार है . bahut sunder pankti hai ..

अल्पना वर्मा said...

टकराना पर्वतों से या इश्क हो किसी से
परिणाम दर्द मिलता, जो बेशुमार है
bahut khooob!

prem ke adbhut rang magar anjaam ek hi!

वाणी गीत said...

पर्वतों से टकराने से होने वाला दर्द और इश्क का दर्द एक जैसा लग रहा है आपको ...
किसी पत्थर की मूरत को दिल में बसा लिया है क्या ...:)...
अच्छी कविता ...!!

हिमांशु । Himanshu said...

"हालात दिल का समझा आँखों में डूबकर
दुनिया समझ न पायी क्या अख्तियार है?"

इन पंक्तियों ने पूरी रचना को अलग-सा प्रभाव दिया है । आभार ।

योगेन्द्र मौदगिल said...

Wahwa...kya girah lagaai hai aapne..
aapki tvarit kavya pritikriya sukhad lagti hai.

shukriya...

aapki prastut gazal ke liye SADHUWAD..

मनोज कुमार said...

शानदार और मनमोहक।

डॉ टी एस दराल said...

टकराना पर्वतों से या इश्क हो किसी से
परिणाम दर्द मिलता, जो बेशुमार है

बहुत सुन्दर।
मगर टकराना भी तो बहादुरों का ही काम होता है, फिर चाहे वो पर्वत हो या आशिक।

गौतम राजरिशी said...

आप इस "सुमन" को हमेशा इतने अच्छे से इस्तेमाल करते हैं अपनी पंक्तियों में कि अचंभित रह जाते हैं हम तो कवि की लेखने पे।

निर्मला कपिला said...

टकराना पर्वतों से या इश्क हो किसी से
परिणाम दर्द मिलता, जो बेशुमार है

जो इश्क न किया तो ये जिन्दगी अधूरी
हर हाल में सुमन को भ्रमर स्वीकार है
वाह वाह
सुमन जी बहुत सुन्दर रचना है बधाई

वन्दना said...

bahut hi sundar.

श्यामल सुमन said...

आप सबके स्नेह और समर्थन मेरे कलम को ताकत मिलती है। श्यामल सुमन का विनम्र आभार प्रेषित है।

यूँ ही स्नेह बनाये रखें।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com

मथुरा कलौनी said...

बहुत नाजुक कविता है। लगता है सफर आपको इतना भा गया है कि मंजिल तब पहुँचने की जल्‍दी नहीं है।

संजय भास्कर said...

बहुत ही भावपूर्ण निशब्द कर देने वाली रचना . गहरे भाव.

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!