Thursday, June 14, 2018

मौत मंजिल है जीवन सफर हो गया

प्यार करने का ऐसा असर हो गया
बाखबर पहले था बेखबर हो गया

प्यार सबके दिलों में तो दुनिया बसी
जो असल में इधर से उधर हो गया

रूठने और मनाने के दिन खो गए
आपसी रिश्ता मानो जहर हो गया

मौत है बावफा, जिन्दगी बेवफा
मौत मंजिल है जीवन सफर हो गया

काम से नाम में खुशबू आती सुमन
सबके दिल यूँ बसे जैसे घर हो गया

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!