Sunday, January 3, 2016

पर आंखो में पानी कम है

जिसे जरूरत जितनी कम है
उसमें उतना ही दमखम है

कहीं आंख का पानी आंसू
कहीं कहीं पर वो शबनम है

माँ गिनती में इन्द्राणी सी
बाकी तो सचमुच मरियम है

भौतिकता की चाहत जितनी
वो रहता उतना बेदम है

रोज तरक्की करती दुनिया
पर आंखो में पानी कम है

लोग बदलते रहते जैसे
वैसे बदल रहा मौसम है

नहीं निराशा कभी सुमन को
बदलेगा अब जो आलम है



3 comments:

वन्दना अवस्थी दुबे said...

रोज तरक्की करती दुनिया
पर आंखो में पानी कम है
बहुत खूब...

ब्लॉग बुलेटिन said...

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, सियाचिन के परमवीर - नायब सूबेदार बाना सिंह - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

Himanshu Pandey said...

बहुत ही सुन्दर रचना

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!