Saturday, June 18, 2022

सभी काम के दाम मुसाफिर

जितना जिसका काम मुसाफिर
उतना उसका नाम मुसाफिर
वक्त करे इन्साफ, किसी को
मत करना बदनाम मुसाफिर

          सभी काम के दाम मुसाफिर
          मिल जाता परिणाम मुसाफिर
          चाहो तो जीसस, अल्ला संग
          मिल सकते हैं राम मुसाफिर

जब आजीवन काम मुसाफिर
हर दिन सुबहो शाम मुसाफिर
फिर भी बहुत निठल्ले करते
बेच लाज विश्राम मुसाफिर

          शीत कहीं तो घाम मुसाफिर
          पर करना नित काम मुसाफिर
          करना पक्ष सबल जीवन के
          जितने भी आयाम मुसाफिर

हुए कई गुलफाम मुसाफिर
लगभग सब नाकाम मुसाफिर
चमन सजाया वही लगन से
जिसका सच्चा काम मुसाफिर

          चाहे दक्षिण, वाम मुसाफिर
          भले अलग आयाम मुसाफिर
          काम करो मिल भारत खातिर
          तभी सुखद परिणाम मुसाफिर

भले शहर या गाम मुसाफिर
सभी देश के नाम मुसाफिर
चलो सुमन संग मुल्क बनाने
करो नया नित काम मुसाफिर

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!