Tuesday, August 30, 2022

बेच रहे क्यों टुकड़े टुकड़े?

राजन्! जनता आज हताश।
बेच रहे क्यों टुकड़े टुकड़े, लोगों का विश्वास।।
राजन्! जनता -----

राजा की पहले भी सबने, देखी है मनमानी।
अहंकार में भूल गए जो, सत्ता आनी जानी।
परेशान लोगों को तुमसे, आस लगी थी खास।।
राजन्! जनता -----

बाहर मीठे बोले तुम्हारे, अंदर क्या बतलाओ?
पहले के राजा और तुममें, अन्तर क्या बतलाओ?
आमजनों के घर में फाका, तेरे घर में रास।।
राजन्! जनता -----

भूल गए हो तुम क्यों प्यारे, क्या है फर्ज तुम्हारा?
काम देख तू इतिहासों में, क्या क्या दर्ज तुम्हारा?
तेरे जाने से मुमकिन है, बुझे सुमन की प्यास।।
राजन्! जनता -----

No comments:

हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!